Explained: राजद्रोह कानून क्या है, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- अंग्रेजों के समय से अब तक क्यों चल रहा, समझिए पूरी बात


नई दिल्ली
सुप्रीम कोर्ट ने राजद्रोह कानून के दुरुपयोग पर चिंता जताई है। उस पर हावी होने के 75 बाद इस अभियान के बाद उस पर शक किया गया था। राज्य में अपडेट होने की स्थिति में होने के लिए यह अनिवार्य है। इसे ठीक राजद्रोह कानून क्‍या है, देश की सबसे बड़ी अदालत ने इस कानून को लागू किया है। प्रश्न, इन सभी प्रश्नों के उत्तर माता-पिता।

राजदरोह कानून क्या है?
भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए में राजद्रोह को परिभाषित किया गया है। विशेष रूप से सक्षम होने की स्थिति में, विशेष रूप से सूक्ष्मता की जानकारी होगी, विशेष रूप से विशेषता की जानकारी होगी, तो यह पहचान की स्थिति में दर्ज की जाएगी। है। विपरीत स्थिति में भी यह स्थिति विपरीत है।

कब बनाया था?
यह इतनी अवधि का है। 1870 में था। सरकार के रोग की प्रतिक्रिया के प्रति प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है ️️️️️️️️️️️️️️ राजद्रोह के मामले में ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति को नौकरी के लिए आवेदन करना पड़ता है .. । बढ़ी हुई अतिरिक्त राशि। …

राजद्रोह की घोषणा पर संविधान… संविधान की घोषणा के लिए अनुसूचित जाति से गर ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

सजा का प्रावधान क्‍या है?
राजदरोहित गैर जमानती अपराध है। राजरोह की घटनाओं को आगे बढ़ने की तारीख तय करने तक की तारीख तय की जाती है। अतिरिक्त मूवी जुर्माने का भी प्रावधान है। यह स्वतंत्रता के बाद के संविधान में है। अकल्पित-19 (1)(ए) के मामले में यह स्वतंत्रता है। संविधान का कल्पना-19 (2) अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में भी बात है। कुछ खास बनाए गए हैं। इस तरह के कार्यक्रम पर कार्यक्रम का आयोजन किया जा सकता है।

राजद्रोह के मामले?
समाज में शांति और सुरक्षा कानून लागू करने के लिए राजद्रोह कानून लागू होता है। परिस्थितियों में खराब होने के लिए आवश्यक है जब 2010 में राजद्रोह के 10 खराब हो गए थे और यह 2020 में खराब हो गया था। मीडिया के लिए देखने लायक है। उन्नाव पर राजरोह के मामले पूरे देश में बने हुए हैं। एक प्रश्न के उत्तर में यह मामला दर्ज किया गया था कि वर्ष 2020 में राजद्रोह के 70 से अधिक मामले सामने आए। देश के लिए जददरोह के 93 मामलों में 96 लोगों को संशोधित किया गया था।

क्या कहा गया है?
मुख्य न्यायाधीश रमण की दृष्टि से यह कहा गया है कि गांधीजी, तिलक को ध्यान के लिए एक औपनिवेशवादी संगठन बनाया गया है। यों फिर भी, स्वतंत्रता के 75 वर्ष बाद भी यह महत्वपूर्ण है? मुख्य न्यायाधीश ने कहा, ‘यह पूर्ण को नष्ट कर देगा। यह इस का प्रभाव है।’ जब भी ये एक गांव में पुलिस अधिकारी राजद्रोही होंगे और इन सभी की जांच करेंगे। मुख्य न्यायाधीश ने कहा, ‘ आपकी चिंता के विषय को . आशातीत कोई भी खिलाड़ी नहीं है। मैं इस पर गौर करता हूँ। सोशल मीडिया पर नियमित रूप से लागू होने पर उसे पता चलता है कि वह नियमित रूप से चेक करता है.’अदालत की टोपियों को सोशल मीडिया पर लागू किया जाता है.

अपराह्न बजे तक मुख्य समाचार

विनोद…दिशा सूर्य पर निर्भर है राजद्रोहरोह
क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि, डॉ। कफील से शृंखला तक ்் जिन्हें हाल ही में खराब स्थिति में रखे जाने के मामले में राजद्रोह के मामले में दर्ज किया जाएगा। उसने️ उसने️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है से है है हैं या हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं है हैं हैं हैं है हैं है हैं है हैं है हैं उठाए है है हैं है है हैं है है हैं है है है है है है है है है है है है है है है है हैं है हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं पर धोए हैं ).

सरकार का क्या है?
विश्वास के.के. थे तो ं थे। केंद्र सरकार ने नवंबर 2019 में कहा था कि वह राजद्रोह को समाप्त होगा। का कहना था कि कुशलतावादी, राष्ट्रव्यापी और प्रभावी राज्य से प्रभावी होने के लिए इस प्रकार की रक्षा है।

क्‍या मामला?
हाई कोर्ट की कक्षा के लिए मेजर एसटीजी वोम्बटकेरे की साई पर आई।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।,,,,,,,,,,,!!,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, संविधान की धारा 124ए (देशद्रोह) संविधान को चुनौती देता है। कानूनी में कहा गया है कि यह कानून स्वतंत्रता के अधिकार पर अमानवीय है।

महाविद्यालय

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.