Putin Nuclear War: पुतिन करेंगे तीसरे विश्‍व युद्ध की शुरुआत ? जानें कब यूक्रेन पर रूस गिरा सकता है परमाणु बम


मास्‍को
यूक्रेन की जंग को लेकर दुनिया में तीसरे विश्‍वयुद्ध का खतरा बढ़ता जा रहा है। रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने जहां महाविनाशक परमाणु मिसाइलों को अलर्ट पर रखने का आदेश दिया है, वहीं रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा है कि अगला विश्‍वयुद्ध परमाणु बमों से लड़ा जाएगा। लावरोव ने यह भी कहा कि तीसरा विश्‍व युद्ध बहुत ही विनाशकारी होगा। पुतिन के आदेश के बाद अब रूसी परमाणु कमान ने साइबेरिया में कई मिसाइलों का परीक्षण भी किया है। इससे पहले पुतिन यूक्रेन को लेकर नाटो देशों को भयानक परिणाम भुगतने की चेतावनी भी दे चुके हैं। आइए जानते हैं कि क्‍या वे परिस्थितियां हो सकती हैं जब पुतिन यूक्रेन में परमाणु बम गिरा सकते हैं…..

विशेषज्ञों के मुताबिक यूक्रेन पर रूस के परमाणु बम गिराने की आशंका नहीं है। हालांकि अगर अमेरिका या नाटो देश सीधे तौर पर यू्क्रेन में हस्‍तक्षेप करते हैं, अपने सैनिकों को जंग के मैदान में भेजते हैं या हवा के रास्‍ते बम बरसाते हैं तो पुत‍िन वास्‍तव में परमाणु बम गिराने के विकल्‍प पर विचार कर सकते हैं। यही वजह है कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन और अन्‍य पश्चिमी देशों ने बार-बार यही कहा है कि वे यूक्रेन की रक्षा के लिए अपनी सेना नहीं भेजेंगे। पुतिन का मानना है कि यूक्रेन रूस का हिस्‍सा है। यही नहीं पुतिन के आदेश पर हो रही इस सैन्‍य कार्रवाई में हजारों की तादाद में लोग जिसमें रूसी सैनिक भी शामिल हैं, मारे जा रहे हैं।
War News: रूस के बिना हमें दुनिया की जरूरत नहीं…पुतिन के प्रॉपगैंडा चीफ ने परमाणु विनाश की धमकी दी
परंपरागत युद्ध को रोकने के लिए भी कारगर है परमाणु बम
पश्चिमी देशों का मानना है कि अगर हम यूक्रेन की जंग में कूदते हैं तो हम सीधे तौर पर रूस के साथ जंग में होंगे। अगर पुतिन को लग जाएगा कि वह परंपरागत हथियारों से जंग को नहीं जीत सकते हैं तो वह निश्चित रूप से परमाणु जंग शुरू कर सकते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक परमाणु बम न केवल दुश्‍मन के परमाणु हमले को रोकने के लिए है, बल्कि अगर जरूरी हो तो बड़े पैमाने पर परंपरागत युद्ध को रोकने के लिए भी इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसके बारे में आम जनता में बहुत ज्‍यादा चर्चा नहीं होती है लेकिन परमाणु युग की शुरुआत के बाद से ही परमाणु युद्ध का यह भी एक पहलू रहा है।


अमेरिका के किसी भी राष्‍ट्रपति ने आधिका‍रिक रूप से पहले कभी नहीं घोषित किया है कि अमेरिका जंग के दौरान परमाणु बम का पहले इस्‍तेमाल करने वाला देश नहीं होगा। अमेरिका के नाटो सहयोगी देश जहां वॉशिंगटन ने अपने परमाणु बम रखे हैं, उसे इसे सुरक्षा की गारंटी मानते हैं। अमेरिका के राष्‍ट्रपति रोनाल्‍ड रीगन और मिखाइल गोर्बाचोव साल 1986 में लगभग इस बात पर सहमत हो गए थे कि सभी परमाणु बमों को खत्‍म कर दिया जाए। इस सहमति के बाद सबसे ज्‍यादा टेंशन में अमेरिका के नाटो सहयोगी देश आ गए थे।
Russia Ukraine War News: क्या सच में परमाणु बम फोड़ देगा रूस? पुतिन की न्यूक्लियर आर्मी के बारे में सबकुछ जानिए
पुतिन नाटो देशों को यूक्रेन पर दे चुके हैं गंभीर धमकी
अमेरिका के सहयोगी देशों को डर लगने लगा था कि अमेरिका अपने परमाणु सुरक्षा कवच को खत्‍म कर रहा है। अब यूक्रेन की जंग के बीच कहा जा रहा है कि क्‍या पुतिन परमाणु बम गिराने का आदेश दे सकते हैं, तो इसका जवाब है संभवत:। अगर पुतिन को लगता है कि वह नाटो या अमेरिका के साथ जंग हार जाएंगे तो वह परमाणु हमले का आदेश दे सकते हैं। पुतिन ने 24 फरवरी को दिए अपने भाषण में परमाणु शब्‍द का इस्‍तेमाल नहीं किया था लेकिन धमकी दी थी कि अगर किसी ने यूक्रेन मामले में हस्‍तक्षेप किया तो उसे इतिहास में सबसे विनाशकारी पर‍िणाम भुगतने होंगे। पुत‍िन अगर परमाणु बम गिराते हैं तो इससे तीसरे व‍िश्‍वयुद्ध का खतरा पैदा हो जाएगा। बता दें कि रूस के पास अभी 4 हजार से ज्‍यादा परमाणु बम हैं।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.