Russian Troops Crying : बस अपनी जान लेना चाहता हूं… हाथों में बंदूक और आंखों में आंसू भरे मां से बोला रूसी जवान


कीव : यूक्रेन हमले में हिस्सा ले रहे रूसी सैनिक ‘बेहद घबराए’ हुए हैं। ब्रिटिश खुफिया कंपनी की एक वॉयस रेकॉर्डिंग से ऐसा प्रतीत हो रहा है। यह रेडियो मैसेज संकेत दे रहा है कि सैनिकों ने यूक्रेनी शहरों पर गोलाबारी करने के सेंट्रल कमांड के आदेशों को मानने से इनकार कर दिया है और भोजन और ईंधन के संकट की शिकायत कर रहे हैं। पिछले हफ्ते यूक्रेन पर हमला शुरू होने के बाद से खुफिया फर्म शैडोब्रेक ने इस रेकॉर्डिंग को प्राप्त किया है।

द टेलीग्राफ ने सैनिकों की बातचीत को सुना और कहा कि एक सैनिक कथित तौर पर ऐसा लग रहा था जैसे वह रो रहा है। दूसरी रेकॉर्डिंग में एक सैनिक अपना आपा खोता हुआ सुनाई दे रहा है और पूछ रहा है कि हमारा खाना और ईंधन कब पहुंचेगा। सैनिकों ने कहा, ‘हम यहां तीन दिनों से हैं, आखिर कब तक तैयारी हो पाएगी?’ एक तीसरे संदेश में सैनिकों के बीच तनाव को सुना जा सकता है।
Ukraine War : रूस-यूक्रेन युद्ध लाया बर्बादी की सुनामी… अरबों डॉलर का खर्च, लाखों बेघर, सैकड़ों मौतें
अव्यवस्थित रूप से आगे बढ़ रहे रूसी सैनिक
इसमें सैनिक अपने साथी को कमांड सेंटर के हवाले से याद दिलाता है कि वे किसी जगह पर तोपों से तब तक हमला नहीं कर सकते जब तक नागरिक वहां से नहीं निकल जाते। शैडोब्रेक के संस्थापक सैमुअल कार्डिलो ने टेलीग्राफ को बताया कि एंटेना की मदद से मैसेज को सुनने वालों ने यह रेकॉर्डिंग उन्हें भेजी थी। उन्होंने कहा कि हमने पाया कि रूसी सैनिक पूरी तरह अव्यवस्थित रूप से काम कर रहे हैं।

रिहायशी इलाकों पर मिसाइल दागने के आदेश
कार्डिलो के अनुसार रूसी सैनिकों को कोई अंदाजा नहीं है कि वे कहां जा रहे हैं और उन्हें कैसे एक-दूसरे से बात करनी चाहिए। ऐसे भी मौके आए जब हमन उन्हें रोते और एक-दूसरे का अपमान करते सुना जो जाहिर है कि एक उच्च मनोबल का प्रतीक नहीं है। उन्होंने बताया कि कुछ संदेश युद्ध अपराधों के सबूत हैं क्योंकि इनमें खुलासा हुआ कि सैनिकों को रिहायशी इलाकों पर मिसाइल दागने के आदेश दिए गए हैं।

‘मैं सिर्फ खुद को मारना चाहता हूं’
डेलीमेल की खबर के मुताबिक कहा जा रहा है कि एक दूसरे वीडियो में रूसी सैनिकों को हताशा के चलते वापस रूस लौटते देखा जा सकता है। खबरों के मुताबिक एक सैनिक ने अपनी मां को मैसेज किया जिसमें लिखा, ‘इस समय मैं सिर्फ खुद को मारना चाहता हूं।’ अमेरिका के एक रक्षा अधिकारी के मुताबिक रूसी सैनिकों का हौसला पस्त हो चुका है। न्यूयॉर्क टाइम्स से बात करते हुए अधिकारी ने कहा कि कुछ सैनिक युद्ध को टालने के लिए जानबूझकर अपनी गाड़ियों के पेट्रोल टैंक में छेद कर रहे हैं।

रूसी सैनिक बोले- हमें धोखा दिया गया
सोशल मीडियो पर शेयर किए गए कई वीडियो में दावा किया जा रहा है कि रूसी सैनिक अपने परिवार के साथ बात करते हुए रोने लगे। एक सैनिक ने अपनी मां को बताया कि मैं यूक्रेनी क्षेत्र में हूं और यूक्रेनी सेना ने मुझे बंधक बना लिया है लेकिन मैं ठीक हूं। हमें धोखा दिया गया है। हमें लगा था कि हम शांति रक्षक हैं। इन वीडियो में बंधक बनाए गए सैनिक फोन पर बात करते हुए रो पड़ते हैं। हालांकि इन वीडियो की पुष्टि करना मुश्किल है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.