Bride rajni kamle appeared in mp 12th board examination groom raman dewda waited outside mpsg


देवास. सब पढ़ो-सब बढ़ो. खंडवा के एक छोटे से गांव की रजनी काजले यही संदेश दे रही हैं. वो अपनी शादी के ठीक एक घंटे बाद 12 वीं बोर्ड (12th Board) की परीक्षा देने निकल पड़ीं. महत्वपूर्ण बात ये कि उनके ससुराल वालों ने भी उनका साथ दिया और दूल्हा खुद रजनी को लेकर परीक्षा केंद्र आया. शादी के जोड़े में सजी धजी रजनी अंदर परीक्षा देती रहीं और सूट-बूट में तैयार दूल्हे राजा परीक्षा केंद्र के बाहर अपनी नयी नवेली दुल्हन का इंतजार करते रहे. दोनों ने कहा जीवन में आगे बढ़ना है तो पढ़ना जरूरी है.

17 फरवरी से मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हुईं. देवास जिले के खातेगांव के एक परीक्षा केंद्र पर नज़ारा प्रेरणा देने लायक था. यहां बाकी परीक्षार्थियों की भीड़ के बीच एक सजी धजी दुल्हन आती दिखी. पहले तो लोग समझ नहीं पाए. सबने कौतूहल से देखा फिर माजरा समझते देर नहीं लगी. ये दरअसल छात्रा ही थी जो परीक्षा देने आयी थी.

हरदा में मायका, खंडवा में ससुराल, देवास में परीक्षा केंद्र
दुल्हन का नाम रजनी काजले है. वो हरदा जिले के सिरकम्बा टेमागांव की रहने वाली है. 12वीं की परीक्षा के लिए खातेगांव से प्राइवेट फॉर्म भरा था. देवास जिले से 150 किलोमीटर दूर खंडवा जिले के पडल्या गांव में रमन देवड़ा से रजनी की शादी हुई. लेकिन इत्तेफाक देखिए कि शादी 16 फरवरी को हुई और अगली ही सुबह 17 फरवरी को 12वीं बोर्ड की परीक्षा शुरू हो गयी.

शादी की तारीख पहले से तय थी
समस्या विकट थी. शादी की तारीख महीनों पहले तय हो चुकी थी. परीक्षा की तारीख बाद में घोषित हुई. रजनी अगर परीक्षा नहीं देती को उसका पूरा साल बर्बाद हो जाता है. रजनी उनके पति रमन और परिवार वालों ने तय किया कि दोनों काम होंगे. शादी के बाद रजनी परीक्षा देने जाएगी. हुआ भी ऐसा ही. खुद रजनी के पति रमन उन्हें लेकर परीक्षा केंद्र पहुंचे.

शादी के एक घंटे बाद परीक्षा के लिए रवाना
शादी की रस्में सुबह 4:00 बजे तक चलीं उसके बाद विदाई हुई. सुबह पांच बजे रजनी विदा होकर खंडवा जिले के पडल्या गांव में अपने ससुराल पहुंचीं और फौरन ही वहां से अपने पति के साथ परीक्षा देने के लिए रवाना हो गयीं. परीक्षा केंद्र देवास जिले के खाते गांव में था जो ससुराल से पूरे 150 किमी दूर था. शादी और सफर की थकान को दरकिनार कर नये ब्याहे दूल्हा-दुल्हन दोनों खातेगांव के कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय केंद्र पर पहुंच गए. रजनी ने बताया उस का इंग्लिश का पेपर था.

ये भी पढ़ें- MP के इन 7 स्टेशनों से गुजरेगी Shri Ramayana Yatra train, जानिए किराया और पूरा शेड्यूल

क्या कहती है दुल्हन
रजनी ने बताया कि शादी की तारीख जब तय हुई थी जब उसकी परीक्षा तारीख की घोषणा नहीं हुई थी. जैसे शादी करना जरूरी है वैसे शिक्षा भी उसी के साथ जरूरी है. अच्छी शिक्षा प्राप्त करना ही मेरा सपना है. इसलिए विदाई के 1 घंटे बाद ही मैं परीक्षा के लिए निकल आई. इसमें मायके और ससुराल पक्ष के परिवार ने मेरा साथ दिया. वहीं पति भी सात फेरे के वचनों को निभाते हुए मेरे साथ यहां आए. रजनी कहती हैं जीवन में आगे बढ़ना है तो पढ़ाई जरूरी है.

ये भी पढ़ें- प्रज्ञा ठाकुर बोलीं – हिजाब वो पहनें जो अपने घर में ही सुरक्षित नहीं, भारत में इसकी जरूरत नहीं

पति ने निभाया वचन
रजनी के पति रमन देवड़ा ने भी कॉलेज तक पढ़े हुए हैं. वो बोले मैं शिक्षा का महत्व जानता हूं. समय के साथ हर चीज जरूरी है. रजनी परीक्षा देने नहीं आती तो उसका 1 साल बर्बाद हो जाता. शादी के अगले दिन ही अंग्रेजी का पेपर था. इसकी तैयारी रजनी ने पहले से कर ली थी. पेपर भी अच्छा गया.

आपके शहर से (देवास)

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

Tags: 12th Board exam, Dewas News, Madhya pradesh news

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.