UNSC Vote On Russia: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस के खिलाफ प्रस्ताव, जानिए भारत ने किसका साथ दिया


आखिरकार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वो पल आ ही गया, जब तमाम देशों को अमेरिका और रूस में से किसी एक का साथ देना था। यूक्रेन पर हमला करने के चलते संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस के खिलाफ प्रस्ताव लाया गया था, जिस पर सभी देशों को वोटिंग करनी थी। सबकी नजरें खास तौर पर भारत पर टिकी थीं, क्योंकि भारत के लिए एक तरफ रणनीतिक साझेदारी वाला दोस्त अमेरिका है तो दूसरी तरफ सालों से पक्के दोस्त की भूमिका निभा रहा रूस। तो भारत ने आखिर क्या किया और रूस के कदम को लेकर चीन का स्टैंड क्या रहा, आइए आपको बताएं।

रूस को लेकर भारत ने क्या किया?
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत में बहुत ही समझदारी दिखाते हुए रूस के हमले की निंदा तो की, लेकिन वोटिंग से परहेज किया। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि
टीएस तिरुमूर्ति ने भारत की तरफ से पक्ष रखा।

उन्होंने कहा-
‘सभी सदस्य देशों को रचनात्मक तरीके से आगे बढ़ने के लिए इन सिद्धांतों का सम्मान करने की आवश्यकता है। मतभेदों और विवादों को निपटाने के लिए बातचीत ही एकमात्र रास्ता है, हालांकि इस समय वो कठिन लग सकता है। ये खेद की बात है कि कूटनीति का रास्ता छोड़ दिया गया। हमें उस पर लौटना होगा। इन सभी कारणों से भारत ने इस प्रस्ताव पर परहेज करने का विकल्प चुना है। यूक्रेन में हाल के घटनाक्रम से भारत बहुत चिंतित है। हम आग्रह करते हैं कि हिंसा और शत्रुता को तत्काल समाप्त करने के लिए सभी प्रयास किए जाएं। मानव जीवन की कीमत पर कभी भी कोई समाधान नहीं निकाला जा सकता है। हम भारतीय समुदाय के कल्याण और सुरक्षा के बारे में भी बहुत चिंतित हैं, जिसमें यूक्रेन में बड़ी संख्या में भारतीय छात्र भी शामिल हैं।’

रूस पर क्या रहा चीन का स्टैंड?
भारत की ही तरह चीन ने भी वोटिंग से परहेज किया। रूस को लेकर उसका स्टैंड पहले ही साफ हो चुका है। वोटिंग ना करने वालों में यूएई भी शामिल रहा।

बाकी देशों में कौन रूस के पक्ष में, कौन खिलाफ?
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत, चीन और यूएई ने तो वोटिंग से परहेज कर लिया। वहीं रूस के खिलाफ लाए गए प्रस्ताव पर अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, नॉर्वे, आयरलैंड,
अल्बानिया, गबोन, मैक्सिको, ब्राजील, घाना और केन्या जैसे देशों ने मुहर लगा दी।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.