Zero Rupee Note: क्या है जीरो रुपये नोट और क्यों हुआ था जारी, आप भी जानें


आपने 1 रुपये, 5 रुपये, 50 रुपये और 200 रुपये का नोट तो देखा होगा लोकिन क्या आपने जीरो रुपये के बारे में सुना है? अगर नहीं तो आज हम आपको बताएंगे कि कैसे जारी हुआ जीरो रुपये का नोट। भारत में एक दशक से अधिक समय से जीरो रुपये के नोट हैं और बहुत से लोग इसके बारे में नहीं जानते हैं क्योंकि इसे भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी नहीं किया गया है। नोट में सरकारी अधिकारियों के लिए संपर्क की जानकारी है, क्योंकि इन नोटों का उद्देश्य किसी भी प्रकार की रिश्वत को रोकना है। यदि कोई सरकारी अधिकारी रिश्वत का अनुरोध करता है, तो नागरिकों से जीरो रुपये के नोटों के साथ भुगतान करने के लिए कहा जाता है।

नोट में “सभी स्तरों पर भ्रष्टाचार को खत्म करो” और “मैं न तो स्वीकार करने और न ही रिश्वत देने का वादा करता हूं” जैसे भ्रष्टाचार विरोधी नारे लिखे गए हैं। नोट विभिन्न भाषाओं जैसे हिंदी, तेलुगु, कन्नड़ और मलयालम में छापे गए हैं, और इसके स्वयंसेवक इन नोटों को सार्वजनिक स्थानों जैसे रेलवे स्टेशनों, बस स्टेशनों और बाजारों में वितरित करते हैं। इस नोट का लक्ष्य रिश्वतखोरी के बारे में जागरूकता और भ्रष्टाचार उन्मूलन को साझा करना है।

जीरो रुपये का नोट छापने के पीछे का मकसद

भारत में रिश्वतखोरी एक अपराध है जिसके लिए सस्पेंशन और जेल की सजा का प्रावधान है। यह नोट तमिलनाडु के एक गैर-सरकारी संगठन द्वारा रिश्वतखोरी और व्यवस्थित राजनीतिक भ्रष्टाचार से निपटने के लिए बनाया गया था, जिसे 5 वां स्तंभ कहा जाता है और इसे भारत के मानक 50 रुपये के बैंक नोटों की तरह डिजाइन किया गया है।

यह नोट करीब 14 साल पहले साल 2007 में पेश किया गया था। जब लोग भ्रष्ट अधिकारियों को घूस के बदले जीरो रुपये का नोट दिखाने का साहस करते हैं तो भ्रष्ट लोग डर जाते हैं। ऐसा करने के पीछे NGO का मकसद है घूस मांगने वालों के खिलाफ पैसों की जगह यह जीरो रुपये का नोट देकर भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाना। यानी जब भी कोई भ्रष्ट सरकारी अधिकारी रिश्वत मांगता है तो NGO ने नागरिकों को जीरो रुपये के नोट का भुगतान करने के लिए प्रोत्साहित किया।

Interesting Facts about Indian Rivers: भारतीय नदियों की रोचक बातें

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.