‘जो पीएम मोदी की पूजा करते हैं उसे सब मिलता है, लेकिन…’, राहुल गांधी का निशाना


Rahul Gandhi Visit Mahakal Temple: कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) से गुजर रही है. मंगलवार को ये यात्रा उज्जैन से होकर गुजरी. इस दौरान कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने उज्जैन के श्री महाकालेश्वर मंदिर में पूजा-अर्चना भी की. राहुल गांधी ने उज्जैन (Ujjain) में जनसभा को भी संबोधित किया. उन्होंने “जय महाकाल” के नारे से अपने भाषण की शुरुआत की.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि ये जो आपका शहर है, यहां शिवजी का मंदिर है. हम शिवजी को मानते हैं तो क्यों मानते हैं, कोई बता सकता है? सबसे बड़े तपस्वी शिवजी, कृष्णा भगवान तपस्वी, श्रीराम भगवान तपस्वी. हिन्दू धर्म के किसी भी भगवान को आप देखिये सबको देखकर लगता है सब तपस्वी हैं. सिर्फ भगवान ही तपस्या नहीं करते, हिंदुस्तान तपस्वियों का देश है. हिन्दू धर्म में तपस्वी की पूजा करते हैं.  

पीएम मोदी पर कसा तंज

राहुल गांधी ने आगे कहा कि आपने कहा कन्याकुमारी से यात्रा की बहुत बड़ी तपस्या की, पर ये बड़ी तपस्या नहीं है. मैं आपको बताता हूं तपस्या क्या है. कोरोना में जो मजदूर एक कोने से दूसरे कोने में गए, उसे तपस्या कहते हैं. जो किसान हमें भोजन देते हैं वो तपस्या करते हैं. माली, नाई, छोटे मजदूर, ये तपस्या करते हैं, रोज करते हैं और करते-करते मर जाते हैं. कांग्रेस सांसद ने कहा कि ये जो हम कर रहे हैं ये कुछ भी नहीं है. मेरा सवाल है हिन्दू धर्म कहता है तपस्वियों की सेवा होनी चाहिए. जो तपस्या करता है उसे कुछ नहीं मिलता और जो नरेंद्र मोदी की पूजा करते हैं उसे सब कुछ मिलता है. सड़कें, बिजली, पानी सब कुछ मिलता है. दो से पांच लोग प्रधानमंत्री की पूजा करते हैं और उनको सारा धन मिल जाता है. 

News Reels

राहुल गांधी ने और क्या कहा?

उन्होंने कहा कि पेट्रोल पहले 60 रुपये का था अब 107 रुपये का है. मुझसे पूछते हैं कि हम तपस्वी लोग हैं, सारा पैसा इन लोगों के पास क्यों जा रहा है. गीता में लिखा है तपस्या करनी चाहिए पर फल नहीं देखना चाहिए. इन्हीं सड़कों पर हर रोज युवाओं से मिलता हूं, तपस्या की है, पढ़ाई की है, गलती पर मार भी खायी है, एग्जाम देते हैं तपस्या करने के बाद, पर इनका भविष्य खत्म कर दिया है. आज बच्चों ने मुझसे कहा इंजीनियर बनना चाहते हैं. मैंने तपस्या की, मेरे पिता किसान हैं, इन्होंने भी तपस्या की. मेरी मां खाना बनती है उसने भी तपस्या की. इस देश में तपस्या का फल नहीं मिल सकता.   

छोटे दुकानदारों की बात की

राहुल गांधी ने कहा कि छोटे दुकानदारों की बात करते हैं, प्रेस वालों से भी बात करनी है. आज मैं महाकाल गया. पंडित जी ने मुझसे कहा आपकी प्रेस कॉन्फ्रेंस मुझे पसंद है. मैंने कहा आपसे ही सीखा है. छोटा दुकानदार काम करता है, उनके पास ज्यादा पैसा नहीं होता, बड़े उद्योगपति के पास पैसा होता, अगर उनका कैश फ्लो रुक गया तो उन्हें दिक्कत नहीं होती, लेकिन दुकानदारों के साथ ऐसा नहीं है. मैं इनकी बात इसलिए करता हूं क्योंकि ये लोग देश को रोजगार देते हैं, सब जुड़े हुए हैं. 

“8 बजते ही लोगों की धड़कन बढ़ जाती है”

कांग्रेस नेता ने कहा कि लोग घड़ी देखते हैं, 8 बजते ही लोगों के दिल की धड़कन बढ़ जाती है. कहते हैं 8 बजे मोदी जी ने नोटबंदी की थी. 12 बजे गए तो डरते हैं, इस वक्त GST दी थी. इन्होंने किसानों के साथ भी यही करने की कोशिश की पर ये नहीं कर पाए. इनका लक्ष्य क्या है? हिंदुस्तान के जो तपस्वी हैं इनको दबाओ, इनको कुचलो और इनका पैसा छीन का उद्योगपतियों को दे दो. 

ये भी पढ़ें- 

Rajasthan Politics: ‘गद्दार’ पर बवाल के बीच साथ दिखे अशोक गहलोत और सचिन पायलट, राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर हुई चर्चा

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.