सर्दियों में बच्चों के कैर में ना करें जेसी, नहीं तो बढ़ सकता है घबराहट का खतरा


बच्चे को डेंगू से बचाएं: सर्दी ही बच्चों की सेहत का खास ख्याल रखें। ऐसे मौसम में घबराहट से लोग अपना शिकार बना रहे हैं, जिनमें अधिक संख्या में बच्चों की है। नॉमनी बुखार एक ट्रॉपिकल डिजीज है। ये मच्छरों के काटने से धब्बे वाले वायरस से होता है। एक स्वस्थ वेबसाइट के अनुसार, फीवर को ब्रेकबोन फीवर या फीवर ब्रेक फीवर भी कहते हैं। बच्चों को होने पर पूरे शरीर में चकत्ते, बदन दर्द और तेज बुखार होने लगता है। हालांकि बुखार के ज्यादातर मामले हल्के होते हैं, जो लगभग एक सप्ताह के अंदर आप कम ही होते हैं। लेकिन कुछ मामलों में ये गंभीर रूप भी ले सकते हैं। ऐसे में बॉडी वीकनेस और प्लेटलेट्स कम होना जैसे लक्षण हो सकते हैं।

आपको बता दें कि किसी भी उम्र की व्यति को हो सकता है। विशेष रूप से वृद्ध और बच्चे आसानी से इसकी चपेट में आ सकते हैं। दरअसल, बच्चों की इम्यूनिटी वीक होती है, इसलिए डेंग उन पर अधिक हमला करता है। बच्चे को होने वाली खबर से बचने के लिए सावधानी बहुत जरूरी है। विशेष रूप से स्कूल जाने वाले बच्चों का विशेष ध्यान रखें।

इस तरह रखें बच्चों का ख्याल

घरों की खिड़की-दरवाजे शाम होते ही बंद कर लें। मच्छरों को घर में आने दें।
बच्चे के यदि बाहर निकलते हैं तो उन्हों मुस्लिम समुदाय के कपड़े पूरे फाड़ शर्ट, पैंट, जूते और मुस्लिम प्लेयरकर। किसी के शरीर का कोई भी हिस्सा खुला नहीं रहे। इस पर मच्छर नहीं काटेंगे.
रात में सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें।
बच्चों को सोते समय इनसेकेंट रीएंटल शरबत। डीईईटी या नींबू और नीलगिरी का तेल भी लगा सकते हैं।
अगर बच्चा खेलना या घूमना चाहते हैं तो उन्हें दोपहर के समय बाहर औपचारिक, क्‍योंकि सुबह और शाम के समय मचछर ज्‍यादा गतिविधियां होती हैं।
माचछरों को टूटने के लिए जगह न दें। नोएडा माछर पानी में अपने अंडे देते हैं। इसलिए घर में रखे किसी भी खाली कंटेनर में पानी न होने दें।
घर में हैं पेट तो उसकी साफ-सफाई का भी खास ध्यान रखें।
बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए न्यूट्रीशियस डाइट दें।
बच्चे को योग और एक्‍सरसाइज करें।

ध्यान रहे कोई ऐसी बीमारी नहीं जिसका इलाज न हो सके। समय रहते अगर मरीज का इलाज किया जाए तो हालत से राहत मिल सकती है। बच्चों में किसी भी तरह के लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

अस्वीकरण: इस जानकारी की जुड़ाव, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर संभव प्रयास किया गया है। हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी ज़ी न्यूज़ हिन्दी की नहीं है। हमारा विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजने से पहले अपने चिकित्सक से बेशक संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपके लिए जानकारी विवरण मात्र है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.