Russia Ukraine War : मैं रूसी हूं, सॉरी… यूक्रेन पर हमला करके ‘हिटलर’ बने पुतिन, दुनियाभर में विरोध


यूक्रेन पर रूस के हमले (Russia Attack On Ukraine) के खिलाफ दुनियाभर में प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम के अलावा यूरोप के कई देशों में भी लोग सड़कों पर उतरे। रूस के भीतर भी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) की कार्रवाई के खिलाफ प्रदर्शन हुए। रूसी पुलिस ने दर्जनों शहरों में युद्ध-विरोधी प्रदर्शनों में सैकड़ों लोगों को हिरासत में लिया है। वहीं, अमेरिका में वाइट हाउस और रूसी एंबेसी के सामने भी प्रदर्शन शुरू हो गया है। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि अमेरिका यूक्रेन को बचाने के लिए उचित कदम उठाए

रूसी दूतावास के सामने जमे लोग, युद्ध की निंदा करते हुए नारे लगा रहे हैं। इसके अलावा जर्मनी, फ्रांस, हंगरी, स्‍पेन, जॉर्जिया समेत कई देशों में रूस के खिलाफ प्रदर्शन हुए हैं। जॉर्जिया की संसद के बाहर प्रदर्शन में कई लोग बैनर लिए थे जिनपर लिखा था, ‘मैं रूसी हूं, उसके (युद्ध) लिए सॉरी।’

‘मैं रूसी हूं, माफी मांगता हूं’

जॉर्जिया में संसद के बाहर बड़ी संख्‍या में लोग जुटे। यूक्रेन में रूस के खिलाफ सैन्‍य कार्रवाई का विरोध करने वालों में कई रूसी नागरिक भी शामिल थे। इन्‍हीं में से एक ने हाथ में पोस्‍टर ले रखा था, ‘मैं रूसी हू, उसके (आक्रमण) के लिए सॉरी।’

जॉर्जिया पर भी 2008 में हमला कर चुका है रूस

-2008-

रूस ने अगस्‍त 2008 में जॉर्जिया पर भी हमला किया था। यह 12 दिन तक चला वह संघर्ष 21वीं सदी का पहला यूरोपियन युद्ध माना जाता है। जॉर्जिया में एंटी-रूस सेंटिमेंट खासा प्रभावी है। तस्‍वीर में आप जॉर्जिया में हुए प्रदर्शन की झलक देख सकते हैं।

‘पुतिन के ऐक्‍शन का कोई डिफेंस नहीं’

जॉर्जिया की राजधानी में हुए प्रदर्शन में कई लोग खुद को रूसी नागरिक बता रहे थे। वे पुतिन के फैसले का पुरजोर विरोध कर रहे थे। आगे की तस्‍वीरों में देखिए बाकी दुनिया में कैसे हो रहा है रूस का विरोध।

‘सॉरी, मैं कुछ कर नहीं सकता’

पोलैंड की राजधानी वारसाव में रूसी दूतावास के बाहर खड़ा यह शख्‍स खुद को रूसी बता रहा है। उसके पोस्‍टर में लिखा है, ‘अपने देश पर शर्मिंदा हूं। सभी रूसी युद्धों का समर्थन नहीं करते। मैं यूक्रेन के साथ हूं। सॉरी मैं कुछ कर नहीं सकता।’

यूक्रेन के समर्थन में जॉर्जियंस ने निकाली रैली

हिटलर से हो रही पुतिन की तुलना

यूक्रेन पर हमले का आदेश देने के बाद व्‍लादिमीर पुतिन के खिलाफ जर्मनी में भी प्रदर्शन हुए। बर्लिन में खड़ी इस महिला के हाथ में पुतिन को हिटलर बताता पोस्‍टर है।

न्‍यूयॉर्क में रूस के खिलाफ उतरे लोग

अमेरिका के न्‍यूयॉर्क में भी रूसी हमले के खिलाफ प्रदर्शन हुए। यहां भी पुतिन को हिटलर के रूप में दिखाया गया।

ब्राजील में रहने वाले यूक्रेनियों का भी प्रदर्शन

ब्राजील के साओ पाउलो में रूसी कॉन्‍सुलेट के बाहर प्रदर्शन करते यहां रहने वाले यूक्रेन के लोग।

बुडापेस्‍ट में भी एंटी-वॉर प्रोटेस्‍ट

हंगरी के बुडापेस्‍ट में भी लोगों ने युद्ध के खिलाफ मार्च निकाला। यूक्रेन के समर्थन में उतरे लोगों ने रूसी दूतावास के बाहर प्रदर्शन किया।

वाइट हाउस के बाहर भी जुटे लोग

वॉशिंगटन में वाइट हाउस के बाहर भी भारी संख्‍या में लोग जमा हुए। यहां पर यूक्रेन में रूसी आक्रमण के खिलाफ एक मार्च निकाला गया।

NATO क्या है, जिससे बरसों से खुन्नस खाता आ रहा है रूस?

NATO क्या है, जिससे बरसों से खुन्नस खाता आ रहा है रूस?

पुतिन को रोको, पोलैंड से आई आवाज

पोलैंड के काराकोव में रूस के मिलिट्री ऑपरेशन के खिलाफ प्रदर्शन हुए। लोगों ने दुनियाभर के नेताओं से पुतिन को रोकने की अपील की।

‘जिंदगी जीतनी चाहिए’, बर्लिन में भी विरोध

बर्लिन में भी एंटी-वॉर प्रोटेस्‍ट्स का सिलसिला जारी है। गुरुवार को ब्रैंडनबर्ग गेट पर मौजूद एक प्रदर्शनकारी।

स्‍पेन में एक साथ रूसी और यूक्रेनी कर रहे विरोध

स्‍पेन के बार्सिलोना में यूक्रेनी और रूसी एमिग्रेंट्स ने एक साथ मिलकर युद्ध-विरोधी प्रदर्शन में हिस्‍सा लिया।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.