Nawab Malik: नवाब का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन, दाऊद की बहन हसीना पारकर से कई बार हुई थी मुलाकात, 1993 बम ब्लास्ट के आरोपी का दावा


मुंबई: महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक(Nawab Malik) को गिरफ्तार करने से पहले ईडी(ED) ने काफी होम वर्क किया और ईडी ने दाऊद(Dawood ibrahim) के परिवार के लोगों को ही मलिक के खिलाफ गवाह बना दिया। इनमें हसीना पारकर(Haseena Parkar) के बेटे अलीशाह और छोटा शकील(Chhota Shakeel) के साले सलीम फ्रूट के बयान प्रमुख हैं। ईडी ने 1993 ब्लास्ट के दोषी सरदार शाह वली खान का भी औरंगाबाद जेल में जाकर बयान दर्ज किया। इस केस में उसे आजीवन कारावास की सजा हुई है। कई साल पहले वह पैरोल पर जेल से बाहर भी आया था।

ज्यादातर इन बयानों के जरिए ईडी ने बुधवार को कोर्ट को यह बताने की कोशिश की कि मलिक के दाऊद की बहन हसीना और उससे जुड़े लोगों से गहरे संपर्क थे। सरदार ने स्टेटमेंट में यह तक दावा किया कि मलिक अतीत में कई बार हसीना से मिले थे। कुछ मीटिंग्स में खुद सरदार भी मौजूद था।

मलिक पर अंडरवर्ल्ड से संबंध का आरोप
पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फणडवीस ने जब नवंबर में मलिक पर अंडरवर्ल्ड से संबंध का आरोप लगाया था, तो सरदार के अलावा सलीम पटेल का भी नाम लिया था, जो हसीना का ड्राइवर और बॉडीगार्ड था। अलीशाह ने ईडी को बताया कि सलीम यों तो प्याज के धंधे से जुड़ा था, लेकिन वह उसकी मां के लिए भी प्रॉपर्टी से जुड़े मामले देखता था। अलीशाह ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि सलीम पटेल गोवावाला कंपाउंड वाला मामला भी देखता था। यहां उसने एक ऑफिस भी खोल रखा था। यहां वह बैठता भी था। मुनीरा प्लंबर नामक जिस महिला की प्रॉपर्टी का कंट्रोल उसकी मां हसीना के पास था, वह प्रॉपर्टी हसीना ने मलिक को बेच दी थी।

ईडी ने मुनीरा का भी लंबा बयान लिया है। उन्होंने जांच टीम को 12 सितंबर 1989 को मुंबई की एक कोर्ट में दाखिल की गई उस शिकायत की प्रति भी दी, जिसमें मलिक पर गोवावाला कंपाउंड में उनकी संपत्ति यानी दुकानों को हड़पने के लिए उन्हें धमकाने का आरोप लगाया गया था। ईडी का मलिक के खिलाफ जो मूल केस है, वह यही है कि हसीना ने फर्जी पावर ऑफ अटॉर्नी के जरिए मुनीरा की 3 एकड़ जमीन हथिया ली थी और मलिक को बेच दी थी।

नवाब मलिक ने हसीना पारकर बार मुलाकात की थी

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.