वो यूक्रेनी महिला, जो रूस से कभी अकेले दम पर लेती थी टक्कर; गजब की हिम्मत थी


नई दिल्ली: रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध को देखने के बाद अब पूरी दुनिया यही समझ रही है कि एक कमजोर से देश का मुकाबला एक मजबूत ताकत रूस से होने जा रहा है. ऐसे में लगभग सभी मान चुके हैं कि पुतिन ही दुनिया के सबसे शक्तिशाली नेता हैं. लेकिन आपको बता दें कि यूक्रेन में एक महिला ऐसी भी हुई जिनसे खुद पुतिन डरते थे. 

पुतिन का खुला विरोध

यूलिया तेमोसेंकोवा (Yulia Tymoshenko) यूक्रेन की पहली महिला प्रधानमंत्री थीं. 2 बार यूक्रेन की प्रधानमंत्री रहने के दौरान वह खुलकर रूस के खिलाफ बोलती थीं. यूलिया पश्चिमी देशों से बेहतर संबंधों की हिमायती थीं और यूक्रेन को NATO में शामिल करना चाहती थीं. 

बिना लड़े भी शक्ति कायम

यूलिया कुछ महीनों के लिए 2005 में और फिर 2007 से 2010 तक यूक्रेन की प्रधानमंत्री रहीं. इस दौरान वह खुलकर रूस के खिलाफ बोलती रहीं. उनके दौर में रूस हमेशा दो कदम पीछे ही रहा. उन्होंने कई बार रूस को खुली चुनौती भी दी. वे बिना लड़े रूस को अपने देश की एक इंच जमीन देने के पक्ष में नहीं थीं.

यह भी पढ़ें: रूस-यूक्रेन युद्ध का दुनिया पर असर! जानें आपकी जेब पर क्या पड़ेगा फर्क

यूक्रेन की गैस क्वीन

यूलिया को यूक्रेन में गैस क्वीन के नाम से जाना जाता था क्योंकि उनका वहां गैस का बड़ा व्यापार था. उनकी गिनती यूक्रेन की सबसे सफल बिजनेस वुमन के तौर पर होती थी.

ऐसे हुई बुरे दिनों की शुरुआत

यूलिया ने 2010 में राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ा जिसमें उनकी हार हुई. इसके बाद से उनके बुरे दिन शुरू हो गए. यूलिया के प्रधानमंत्री रहते हुए रूस के साथ हुए एक गैस डील में भ्रष्टाचार के आरोप में राष्ट्रपति विक्टर यूश्नकोव ने उन्हें जेल भेज दिया, जहां उन्हें काफी यातनाएं दी गईं. वो साल 2011 से 2014 तक जेल में रहीं.

यह भी पढ़ें: यूक्रेन में रूस के खूनी कदम के खौफनाक VIDEO आए सामने.. देखें, टैंक-हेलीकॉप्टर ऐसे मचा रहे तबाही

सोवियत संघ के देशों की पहली महिला पीएम 

2005 में यूलिया को फोर्ब्स मैग्जीन ने दुनिया की सबसे ताकतवर महिलाओं की सूची में तीसरे नंबर पर रखा था. यूलिया यूक्रेन ही नहीं, बल्कि पूर्व सोवियत संघ के देशों में पहली महिला प्रधानमंत्री थीं.

LIVE TV

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.