पश्चिम बंगाल: गवर्नर ने 7 मार्च को रात 2 बजे बुलाई विधानसभा, बोले- कैबिनेट के कहने पर लिया फैसला



पश्चिम बंगाल विधानसभा के अध्यक्ष विमान बनर्जी ने रात 2 बजे विधानसभा की बैठक बुलाने को लेकर कहा कि निश्चित ही कोई टाइपिंग में गलती हुई होगी, जिसे टाला जा सकता था।

पश्चिम बंगाल की ममता सरकार से खींचतान के बीच गवर्नर जगदीप धनखड़ ने 7 मार्च को रात 2 बजे विधानसभा की बैठक बुलाई है। गवर्नर जगदीप धनखड़ ने रात 2 बजे विधानसभा बुलाने को लेकर कहा कि उन्होंने राज्य की कैबिनेट के कहने पर यह फैसला लिया है।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ के कार्यालय द्वारा 24 फ़रवरी को जारी नोटिस में कहा गया है कि संविधान के अनुच्छेद 174 के तहत पश्चिम बंगाल के गवर्नर ने राज्य विधानसभा की बैठक 7 मार्च को रात 2 बजे बुलाई है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने अपने ट्विटर अकाउंट से भी विधानसभा की बैठक बुलाने वाले नोटिस को शेयर किया है। साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि रात दो बजे विधानसभा की बैठक बुलाना असामान्य है और यह एक तरह का इतिहास बन सकता है। लेकिन यह तो कैबिनेट का निर्णय है।

वहीं पश्चिम बंगाल विधानसभा के अध्यक्ष विमान बनर्जी ने रात 2 बजे विधानसभा की बैठक बुलाने को लेकर कहा कि निश्चित ही कोई टाइपिंग में गलती हुई होगी, जिसे टाला जा सकता था। राज्य सरकार ने जब भी सूचना भेजी थी, तो उसमें दोपहर 2 बजे का उल्लेख किया था। अब यह कैबिनेट के ऊपर है कि वे क्या फैसले लेते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार विधानसभा बुलाने के लिए कैबिनेट के द्वारा भेजी गई सिफारिश पर चर्चा के लिए गवर्नर जगदीप धनखड़ ने राज्य के मुख्य सचिव को बुलाया था। लेकिन मुख्य सचिव राज्यपाल से मुलाक़ात करने नहीं पहुंचे। जिसके बाद राज्यपाल ने कैबिनेट की सिफारिश को मंजूरी दे दी और अपने ट्विटर अकाउंट से उस नोटिस को भी साझा कर दिया।

इससे पहले राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सात मार्च से विधानसभा का सत्र बुलाने संबंधी सिफारिश को वापस भेज दिया था। राज्यपाल ने संवैधानिक नियमों का पालन नहीं किए जाने का हवाला देते हुए सिफारिश को वापस भेजा था। राज्यपाल के इस कदम पर तृणमूल नेताओं ने जगदीप धनखड़ पर प्रशासनिक कार्य को बाधित करने का आरोप लगाया था।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.