Dilip Singh US Russia: बाइडन ने भारतीय को दी यूक्रेन पर रूस को झुकाने की जिम्‍मेदारी, जानें कौन हैं दलीप सिंह


वॉशिंगटन
यूक्रेन में रूसी सेना के घुसने से भड़के अमेरिका ने रूस (US Russia) के खिलाफ कई कड़े प्रतिबंधों का ऐलान किया है। अमेरिका को उम्‍मीद है कि इन प्रतिबंधों से रूस की आक्रामकता ढील होगी और उसे यूक्रेन पर झुकाया जा सकेगा। बाइडन प्रशासन ने रूस पर प्रतिबंध लगाने की जिम्‍मेदारी एक भारतीय को सौंपी है। इनका नाम दलीप सिंह (Dilip Singh) हैं। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक दलीप सिंह बाइडन प्रशासन के आर्थिक सलाहकार हैं।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सोमवार को उस निर्णय पर हस्ताक्षर किये जिसके माध्यम से यूक्रेन के ‘दोनेत्स्क और लुहांस्क गणतंत्र’ को ‘स्वतंत्र’ देश के तौर पर मान्यता दी गई है। इससे क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है और यूक्रेन पर मॉस्को के हमले की आशंका बढ़ गई है। पुतिन ने रूस के सैनिकों को पूर्वी यूक्रेन में बढ़ने का आदेश दिया है जिसे क्रेमलिन की ओर से ‘शांतिरक्षा’ अभियान नाम दिया गया है।
यूक्रेन-रूस विवाद: अमेरिकी प्रतिबंधों के आगे झुके पुतिन! बोले, ‘राजनयिक समाधान के लिए तैयार’, बैकफुट पर रूस ?
‘दलीप सिंह को लोगों की मांग पर वापस लाया’
दलीप सिंह अंतरराष्ट्रीय अर्थशास्त्र के लिए उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार तथा राष्ट्रीय आर्थिक परिषद के उप निदेशक हैं। बीते कुछ दिनों में वह वाइट हाउस के प्रेस कक्ष में दूसरी बार नजर आए हैं। वाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा कि उन्हें (सिंह) ‘लोगों की मांग पर वापस लाया’ गया है क्योंकि सिंह बाइडन प्रशासन में रूस नीति पर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

सिंह ने अपने संबोधन में संवाददाताओं से कहा, ‘यूक्रेन पर रूस का हमला शुरू हो गया है और इसके साथ ही हमने जवाब देना भी आरंभ कर दिया है। आज राष्ट्रपति (बाइडन) ने तेजी से प्रतिक्रिया दी और सहयोगी देशों के साथ तालमेल कर फैसला लिया। यह गति और समन्वय ऐतिहासिक था… एक निर्णायक प्रतिक्रिया देने में महीनों और हफ्तों का समय लगा।’
यूक्रेन-रूस विवाद: पुतिन के सामने कमजोर पड़ रहे बाइडन ? दुनिया को क्‍यों आई डोनाल्‍ड ट्रंप की याद
रूस की ‘नॉर्ड स्ट्रीम-2’ गैस पाइपलाइन का संचालन नहीं होगा

सिंह ने कहा कि जर्मनी के साथ पूरी रात चली बातचीत के बाद रूस की ‘नॉर्ड स्ट्रीम-2’ प्राकृतिक गैस की पाइपलाइन का संचालन नहीं होगा। उन्होंने कहा कि रूस के नियंत्रण वाली इस पाइपलाइन में 11 अरब अमेरिकी डॉलर का निवेश अब बेकार हो जाएगा और इससे रूस को नुकसान होगा। उन्होंने कहा कि इसके अलावा रूस के बैंकों और बड़े व्यवसायियों पर भी आर्थिक प्रतिबंध लगाए गए हैं।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.