Honest schoolgirl reena returned the purse found on the road full of jewelery worth 7 lakhs mpsg


रायसेन. रायसेन में गरीब घर की एक छोटी बच्ची से बड़े-बड़े सीख ले सकते हैं. बच्ची ने लाखों के जेवर (Jewelry) से भरा पर्स मालिक तक पहुंचा दिया. ये पर्स उसे लावारिस मिला था. अपने गुम हुए बेशकीमती गहने पाकर मालिक इतना खुश हुए कि बच्ची को 51 हजार रुपये का इनाम दिया.

ये किस्सा रायसेन जिले के थाना उदयपुरा के ककरुआ गांव का है. यहां रहने वाले यशपाल सिंह पटेल की बेटी का पर्स रास्ते में गिर गया था. पर्स में सोने के गहने भरे थे. इनकी कीमत लगभग 7 लाख रुपये थी. उसी दौरान सड़क से छठवीं में पढ़ने वाली रीना गुजरी. उसकी नजर पर्स पर पड़ी तो वो कुछ देर वहीं रुकी रही. वो इंतजार करती रही कि जिसका भी ये पर्स होगा वो इसे ढूंढ़ता हुआ ज़रूर आएगा.

बाइक सवार का गिरा पर्स
काफी देर तक जब कोई पर्स लेने नहीं आया तो रीना पर्स लेकर अपने घर पहुंची और पिता मंगल सिंह हरिजन को जानकारी दी. रीना गरीब परिवार की बेटी है.  उसके पिता मंगल सिंह उदयपुरा में मजदूरी करते हैं. पिता और बेटी ने ईमानदारी की मिसाल पेश करते हुए पर्स को पुलिस के पास पहुंचाने के लिए अपने मालिक से संपर्क किया. मालिक ने पुलिस को जानकारी दी. पुलिस ने फौरन रीना को थाने बुलाया.

ये भी पढ़ें- बर्निंग ट्रेन बन गयी दानापुर सिकंदराबाद एक्सप्रेस : आग देख इमरजेंसी विंडो-गेट से कूदे यात्री

मालिक और पुलिस दोनों ने दिया इनाम
ईमानदारी की मिसाल कायम करने वाली बेटी रीना को थाने बुलाया गया. वहां उसने पर्स पुलिस को सौंप दिया. पुलिस ने पर्स के मालिक यशपाल पटेल को खबर कर दी. बच्ची और उसके पिता मंगल सिंह की ईमानदारी देख यशपाल पटेल खुश हो गए. उन्होंने रीना को 51 हजार रुपए और कपड़े सम्मान के साथ दिये. उदयपुरा थाना प्रभारी प्रकाश शर्मा ने भी रीना की ईमानदारी को देखते हुए 1100 रुपए सम्मान स्वरूप दिये.

ये भी पढ़ें- गुना के युवा CA और व्यापारी ने सांसारिक जीवन छोड़ वैराग्य अपनाया, विद्यासागर महाराज से ली दीक्षा, Photos

ऐसे हुआ वाकया
थाना प्रभारी प्रकाश शर्मा ने कहा जिस तरह बच्ची ने ईमानदारी का परिचय दिया है. न्यूज़18 से रीना ने बताया कि वह खेत से आ रही थी. तभी देखा कि बाइक पर पीछे बैठकर जा रही एक महिला का पर्स गिर गया. रीना ने उन्हें आवाज लगायी लेकिन उन्होंने नहीं सुना. रीना वहीं खड़ी इंतजार करती रही. उन के वापिस आने का इंतजार करती रही जब कोई लौटकर नहीं आया तो वो भागी भागी घर आयी और अपने पापा मम्मी को पूरी बात बतायी.

स्कूल में सम्मान
छात्रा को पढ़ाने बाले माध्यमिक शाला सिलारी कला के शिक्षक अनिल रघुवंशी ने भी स्कूल में बच्ची का सम्मान किया. उन्होंने कहा बच्ची ने हमारे स्कूल का नाम रोशन किया है. मैं उनके माता पिता को सलाम करता हूं जिन्होंने बच्ची को ऐसे संस्कार दिए हैं. हमारे स्कूल गांव क्षेत्र का नाम रोशन किया है. हमें बहुत गर्व महसूस हो रहा है हमारी स्कूल की बच्ची में ऐसे संस्कार हैं.

आपके शहर से (रायसेन)

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

Tags: Madhya pradesh latest news, Raisen news

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.