Russia Ukraine Crisis: यूक्रेन संकट पर अमेरिका के आक्रामक रुख से भड़का चीन, दहशत पैदा करने का लगाया आरोप


बीजिंग: चीन ने अमेरिका पर यूक्रेन संकट (China on Russia Ukraine Crisis) को लेकर भय और दहशत पैदा करने का आरोप लगाया है। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने बुधवार को कहा कि चीन रूस पर नए प्रतिबंधों (US Sanctions on Russia) का विरोध करता है और चीन के पुराने रूख को दोहराता है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन की सीमाओं के आसपास रूसी सैनिकों की तैनाती (Russian Troops on Ukraine Border) और आक्रमण की आशंका के जवाब में अमेरिका कीव को हथियार प्रदान करके तनाव बढ़ा रहा है।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेतृत्व में चीन-रूस संबंध घनिष्ठ हुए हैं। जिनपिंग ने इस महीने की शुरुआत में बीजिंग में वार्ता के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मेजबानी की थी। दोनों पक्षों ने पूर्व सोवियत गणराज्यों में उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के विस्तार के लिए रूस की आपत्ति का समर्थन करते हुए एक संयुक्त बयान जारी किया और ताइवान के स्व-शासित द्वीप पर चीन के दावे का समर्थन किया। हुआ ने कहा कि यूक्रेन पर बढ़ते अंतरराष्ट्रीय तनाव को कम करने के लिए बीजिंग बहुपक्षीय वार्ता चाहता है। उन्होंने अमेरिका, फ्रांस और अन्य द्वारा रूस को वार्ता की मेज पर लाने के प्रयासों का उल्लेख नहीं किया।

Russia Ukraine Crisis 2022: यूक्रेन की पूरी कहानी… पुतिन कब्जा क्यों करना चाहते हैं, क्या तीसरे विश्व युद्ध का कारण बनेगा रूस?
यूक्रेन ने रूस पर और कड़े प्रतिबंध लगाने की मांग की
यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने आक्रामक रुख को लेकर रूस पर कड़े अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध लगाने की बुधवार को मांग की। कुलेबा ने ट्वीट किया कि पुतिन को और आक्रामकता से रोकने के लिए हम भागीदारों से रूस पर अब और प्रतिबंध लगाने का आह्वान करते हैं।’’ उन्होंने पिछले दिन मास्को पर लगाए गए अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के लिए धन्यवाद व्यक्त किया। लेकिन उन्होंने देशों से रूसी राष्ट्रपति पुतिन पर दबाव और बढ़ाने का आग्रह किया। कुलेबा ने ट्वीट किया रि उनकी अर्थव्यवस्था और सहयोगियों पर प्रहार करें। जोरदार प्रहार करें। अभी करें।

Vladimir Putin Biography: केजीबी का जासूस, फौलादी इरादे… पुतिन ने खुद को कैसे बनाया अपराजेय ताकत जो किसी से नहीं डरता
रूस के खिलाफ प्रतिबंधों को लेकर विपक्ष ने ब्रिटिश सरकार को घेरा
ब्रिटेन की विदेश मंत्री लिज ट्रूस ने रूस के खिलाफ प्रतिबंधों की गति और पैमाने का बचाव करते हुए कहा कि सरकार यूक्रेन में बड़े स्तर पर घुसपैठ की स्थिति में इस्तेमाल के लिए कुछ उपायों को सुरक्षित रख रही है। ट्रूस ने स्काई न्यूज को बताया कि पश्चिमी ताकतें पुतिन की महत्वाकांक्षाओं को रोकने के लिए कुछ प्रतिबंधों को सुरक्षित रखना चाहती हैं। ब्रिटिश अधिकारियों ने कहा है कि वे आगे बढ़ने का फैसला करने से पहले सेना की गतिविधियों को सत्यापित करने का प्रयास करेंगें।

Dontesk-Luhansk Explainer : रूस ने यूक्रेन के डोनेट्स्क और लुहान्स्क को आजाद देश की मान्यता क्यों दी? अब क्या करेगा अमेरिका, सब कुछ जानिए
विपक्ष ने ब्रिटिश सरकार की आलोचना की
ट्रूस ने कहा कि हमने पुतिन से सुना है कि वह सैनिकों को भेज रहे हैं। हालांकि, हमारे पास अभी तक पूरा सबूत नहीं है कि क्या ऐसा हुआ है। हमें कीव सहित अन्य जगहों पर बड़े पैमाने पर आक्रमण की आशंका है। ब्रिटेन के विपक्षी नेताओं और रक्षा विशेषज्ञों ने कड़े प्रतिबंध नहीं लगाने के लिए सरकार की आलोचना की है, खासकर जब अमेरिका और यूरोपीय संघ (ईयू) ने रूस के खिलाफ अधिक आक्रामक तरीके से कदम उठाया।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.