यूक्रेन-रूस विवाद: अमेरिकी प्रतिबंधों के आगे झुके पुतिन! बोले, ‘राजनयिक समाधान के लिए तैयार’, बैकफुट पर रूस ?


मॉस्को : यूक्रेन पर अपनी हालिया कार्रवाई के बाद रूस चौतरफा घिरता हुआ नजर आ रहा है। पुतिन ने जैसे ही पूर्वी यूक्रेन के विद्रोही इलाकों को मान्यता देने के बाद सेना भेजने का आदेश दिया नाटो देश सतर्क हो गए। कुछ घंटों में अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, जर्मनी, जापान सहित कई देशों में मॉस्को पर कड़े प्रतिबंधों की घोषणा कर दी। अब इन प्रतिबंधों के आगे पुतिन झुकते हुए नजर आ रहे हैं। उन्होंने कहा है कि वह बातचीत के लिए तैयार हैं।

यूक्रेन पर पश्चिम के साथ बढ़ते तनाव के बीच पुतिन ने बुधवार को कहा कि मॉस्को ‘राजनयिक समाधान’ के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि लेकिन रूस के हितों और हमारे नागरिकों की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा। पश्चिमी देशों के प्रतिबंधों के चलते रूस दबाव में है। बाइडन ने मॉस्को पर प्रतिबंध लगाते हुए चेतावनी दी थी कि अगर पुतिन आगे कोई कदम उठाते हैं तो प्रतिबंधों को और कड़ा किया जा सकता है।
Ukraine Crisis: रूस के खिलाफ ब्रिटेन का बड़ा कदम, पांच बड़ी बैंकों और तीन नागरिकों पर लगाया बैन, जॉनसन ने दी चेतावनी!
अमेरिकी विदेश मंत्री ने रद्द की बैठक
अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि यूक्रेन के विद्रोही इलाकों को रूस की ओर से मान्यता दिए जाने के बाद उन्होंने जिनेवा में अपने रूसी समकक्ष के साथ होने वाली बैठक रद्द कर दी है। उन्होंने कहा कि रूस की कार्रवाई दिखाती है कि वह इस संकट के समाधान को लेकर कूटनीतिक रास्ता अपनाने के लिए गंभीर नहीं है। यही कारण है कि उन्होंने रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के साथ अपनी बैठक को रद्द कर दिया है।

ब्लिंकन बोले- रूस ने शुरू किया हमला
ब्लिंकन ने कहा कि पुतिन का यूक्रेन के डोनबास इलाके की स्वतंत्रता को मान्यता देने का फैसला ‘अंतरराष्ट्रीय कानून’ का उल्लंघन है। अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि पूर्वी यूक्रेन में रूसी सैनिकों की तैनाती ‘आक्रमण’ की शुरुआत थी। यूक्रेन के राष्ट्रपति ने मंगलवार को पूर्वी इलाके में रिजर्व सैनिकों की तैनाती का आदेश दे दिया है। उन्होंने कहा कि फिलहाल पूर्ण सैन्य लामबंदी की कोई जरूरत नहीं है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.